Profile



Key Signatures of Dalit and Backward Class Literature, Progressive Thinker. Poet, Story Writer, Critic and Journalist.
दलित एवं पिछड़ा वर्ग  साहित्य के महत्वपूर्ण हस्ताक्षर, प्रगतिशील विचारक. कवि, कथा कार, समीक्षक, आलोचक और पत्रकार.
      (आपका जन्म 12 फ़रवरी, 1973 को बिलासपुर, छत्तीसगढ़ में हुआ। आपने एम.ए. एल.एल.बी. तक शिक्षा प्राप्त की। आप देश में चोटी के दलित लेखकों में शुमार किए जाते हैं और प्रगतिशील विचारक, कवि, कथाकार, समीक्षक, आलोचक एवं पत्रकार के रूप में जाने जाते हैं। आपकी रचनाएँ देश की लगभग सभी अग्रणी पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। सफ़ाई कामगार समुदायएवं आधुनिक भारत में पिछड़ा वर्गआपकी चर्चित कृतियों में शामिल हैं। आपकी किताबें मराठी, पंजाबी एवं ओडिया सहित अन्य भारतीय भाषाओं में अनूदित हो चुकी हैं। आपको देश के नामचीन विश्वविद्यालयों द्वारा व्याख्यान देने हेतु आमंत्रित किया जाता रहा है। आपकी पहचान मिमिक्री कलाकार एवं नाट्यकर्मी के रूप में भी है। आप कई पुरस्कारों एवं सम्मानों से सम्मानित किए जा चुके हैं। फ़िलहाल आप राजस्व विभाग में कार्यपालिक पद पर कार्यरत हैं।)
(Brief Introduction: -Sanjeev Khudshah was born February 12, 1973 in Bilaspur, Chhattisgarh. You have to LLB MA education. You are known as one of the country's top Dalit writers and progressive thinker, poet, writer, reviewer, critic and journalist, . your compositions,has been published in almost all of the country leading journals. "SAFAI KAMGAR SAMUDAY" and "ADHUNIK BHARAT ME PICHDA VARG" Add your famous masterpieces is. Your Books translated in Marathi, Punjabi, and in other languages, including Odia. Your identity is as Mimicri artist and Natykrmi. You have been invited to give a lecture by eminent universities. You have many awards and has been awarded the honor.)
Click Here for Bio-Data (पूरा परिचय हेतु कृपया यहां क्लिक करें)